gi tag 2019 geographical indications

All GI Tag 2019 | Geographical Indications

All GI Tag 2019 | Geographical Indications

भारतीय संसद (Indian Parliament) ने 1999 में रजिस्ट्रेशन एंड प्रोटेक्शन एक्ट (Registration and Protection Act) के तहत ‘ Geographical Indications of Goods ‘ लागू किया था, इस आधार पर भारत के किसी भी क्षेत्र (area) में पाए जाने वाली विशिष्ट वस्तु (Particular Item) का कानूनी अधिकार (the legal right) उस राज्य (state) को दे दिया जाता है.

बनारसी साड़ी (Banarsi sarees), मैसूर सिल्क (Mysore silk), कोल्हापुरी चप्पल (Kolhapuri slippers), दार्जिलिंग चाय (Darjeeling tea) इसी कानून के तहत संरक्षित हैं. (preserved under this law.)

जैसा कि नाम से स्पष्ट है, Geographical Indications Tag का काम उस खास भौगोलिक परिस्थिति (particular geographical situation) में पाई जाने वाली वस्तुओं के दूसरे स्थानों पर गैर-कानूनी प्रयोग (prevent the illegal use) को रोकना है.

gi tag 2019 geographical indications
किसको मिलता है (Who gets:):

किसी भी वस्तु को GI टैग देने से पहले उसकी गुणवत्ता (quality) और पैदावार (Crop yield) की अच्छे से जांच (thoroughly examined) की जाती है.

यह तय किया जाता है कि उस खास वस्तु (Particular Item) की सबसे अधिक और Originally पैदावार निर्धारित राज्य की ही है (the prescribed state itself). इसके साथ ही यह भी तय (decide) किए जाना जरूरी होता है कि भौगोलिक स्थिति (geographical situation) का उस वस्तु की पैदावार (productivity) में कितना हाथ है.

कई बार किसी खास वस्तु की पैदावार (Productivity of particular item) एक विशेष स्थान (particular place) पर ही संभव (possible) होती है. इसके लिए वहां की जलवायु (climax) से लेकर उसे आखिरी स्वरूप (final form) देने वाले कारीगरों (artisans) तक का हाथ होता है.

भारत में GI Tags किसी खास फसल, प्राकृतिक और निर्मित सामानों (particular crop, natural and manufactured goods) को दिए जाता है. कई बार ऐसा भी होता है (Many times it happens) कि एक से अधिक राज्यों में बराबर रूप से पाई जाने वाली फसल या किसी प्राकृतिक वस्तु (more than one state crop or any natural object) को उन सभी राज्यों का मिला-जुला (Mixed) GI Tag दिया जाए.

यह बासमती चावल के साथ हुआ है (happened with Basmati Rice). बासमती चावल पर पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्सों का अधिकार है (Basmati rice has the right to parts of Punjab, Haryana, Delhi, Himachal Pradesh, Uttarakhand, Western Uttar Pradesh and Jammu and Kashmir.)

gi tag 2019 geographical indications
GI Tag के फायदे (Benefits of GI Tags):

GI Tag मिलने के बाद अंतर्राष्ट्रीय मार्केट (International Market) में उस वस्तु की कीमत (Price) और उसका महत्व (Value) बढ़ जाता है. इस वजह से इसका Export बढ़ जाता है. साथ ही देश-विदेश से लोग एक खास जगह पर उस विशिष्ट सामान (Particular Items) को खरीदने आते हैं.

इस कारण टूरिज्म (Tourism) भी बढ़ता है. किसी भी राज्य में ये विशिष्ट वस्तुएं (Particular Items) उगाने या बनाने वाले किसान और कारीगर (artisans) गरीबी की रेखा के नीचे (BPL: Below of Poverty Line) आते हैं. GI टैग मिल जाने से बढ़ी हुई Export और Tourism की संभावनाएं इन किसानों और कारीगरों को आर्थिक (Economically) रूप से मजबूत (Strong) बनाती हैं.

कड़कनाथ मुर्गे को मिलाकर (including Kadaknath Chicken) भारत में अभी तक 272 वस्तुओं को GI Tag दिया गया है. ये List हर दो सालों Update की जाती है. 2016 से अबतक इस List में 12 वस्तुएं शामिल की गईं जिनमें उत्तराखंड की तेजपात (tarot), सोलापुर के अनार (Pomegranate) और कश्मीर की हाथ से बुनी गई कारपेट (Handpicked carpet) शामिल है. कर्नाटक एक ऐसा राज्य है जिसके पास सबसे अधिक 40 वस्तुओं के GI अधिकार हैं.

हाल ही में जिन्हे GI Tag मिला है : 

गोविंद भोग चावल – पश्चिम बंगाल (Govind Bhog Rice – West Bengal)
छौ मुखौटा – पश्चिम बंगाल  (Chaou Mask – West Bengal)
रसगुल्ला – पश्चिम बंगाल (Rasgulla – West Bengal)
सिरसी सुपारी- कर्णाटक (Sirsi betel-karnataka)
बनारसी साडी – बनारस (Banarasi Sari – Banaras)
बोक्सोल चावल – असम (Boksol Rice – Assam)
कड़कनाथ चिकन – मध्य प्रदेश (Kadkanath Chicken – Madhya Pradesh)
वारंगल की दरी- तेलंगाना (Dari of Warangal – Telangana)
कुर्ग अरेबिका कॉफी – कर्णाटक (Krug Arabica Coffee – Karnatka)
रोबस्टा कॉफी- केरल (Robusta coffee- kerala)
अरकू कॉफी – आंध्रा प्रदेश (Araku Coffee – Andhra Pradesh)
कंधमाल हल्दी – ओडिशा (Kandhamal turmeric – Odisha)
ईरोड हल्दी – तमिलनाडु (Erode turmeric – Tamilnadu)
सांगली हल्दी – महाराष्ट्र (Sangli turmeric – Maharashtra)
अल्फांसो आम – महाराष्ट्र (Alphonse Maa – Maharashtra)
कुल्लू शाल -हिमाचल प्रदेश (Kullu Shal -Himachal Pradesh)
सिल्क साडी – तमिलनाडु (Silk Sadi – Tamilnadu)
मारयुर गुड़ – केरल (Marur Jug – Kerala)
वृक्ष नीलाम्बर टिक – केरल (Tree Nilambar Tik – Kerala)

निचे GI Tag 2019 | Geographical Indications से सम्बंधित महत्वपूर्ण बहुवैकल्पिक प्रश्न (Important MCQ – Multiple Choice Questions) दिए गए है जो Hindi और English दोनों भाषा में है।

MCQ Quiz & Video ( For Tricky Way to Remember)

All GI Tag in India | Geographical Indication Product MCQ in Hindi

All The Best


Leaderboard: All GI Tag in India | Geographical Indication Product MCQ in Hindi

maximum of 10 points
Pos. Name Entered on Points Result
Table is loading
No data available

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *